PM फंड से 5 ऑक्सीजन प्लांट पहुंचे दिल्ली, एम्स व दिल्ली के 4 अन्य अस्पतालों में लगा रहा DRDO

New Delhi : रक्षा मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) इस सप्ताह के अंत तक दिल्ली में और उसके आसपास कुल पांच सौ ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। मंत्रालय ने जानकारी दी है कि ये उपकरण एम्स ट्रॉमा सेंटर, डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल (आरएमएल), सफदरजंग अस्पताल, लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज और एम्स, झज्जर (हरियाणा) में स्थापित किये जाने हैं। भारत कोरोनोवायरस संक्रमण की दूसरी लहर से जूझ रहा है। ज्यादातर राज्यों के अस्पताल ऑक्सीजन, दवाओं, उपकरणों और बिस्तरों की भारी कमी से जूझ रहे हैं।

<blockquote class=”twitter-tweet” data-width=”550″ data-dnt=”true”><p lang=”en” dir=”ltr”><a href=”https://twitter.com/hashtag/DRDO?src=hash&ref_src=twsrctfw”>#DRDO</a> to install Five Medical Oxygen Plants in <a href=”https://twitter.com/hashtag/Delhi?src=hash&ref_src=twsrctfw”>#Delhi</a> and <a href=”https://twitter.com/hashtag/Haryana?src=hash&ref_src=twsrctfw”>#Haryana</a> in order to tackle the high surge in <a href=”https://twitter.com/hashtag/Covid19?src=hash&ref_src=twsrctfw”>#Covid19</a> cases & subsequent oxygen shortage<a href=”https://twitter.com/DRDO_India?ref_src=twsrctfw”>@DRDO_India</a> <a href=”https://twitter.com/hashtag/IndiaFightsCOVID19?src=hash&ref_src=twsrctfw”>#IndiaFightsCOVID19</a> <a href=”https://twitter.com/hashtag/United2FightCorona?src=hash&ref_src=twsrctfw”>#United2FightCorona</a> <a href=”https://t.co/1xZ85gIcHI”>pic.twitter.com/1xZ85gIcHI</a></p>— DD News (@DDNewslive) <a href=”https://twitter.com/DDNewslive/status/1389570214778474496?ref_src=twsrctfw”>May 4, 2021</a></blockquote><script async src=”https://platform.twitter.com/widgets.js” charset=”utf-8″></script>

रक्षा मंत्रालय ने कहा कि अपने कार्यक्रम के अनुसार, उपरोक्त पांच प्लांटों में से दो मंगलवार को दिल्ली पहुंचे और क्रमशः एम्स और आरएमएल अस्पतालों में लगाये जा रहे थे। इन दो प्लांटों की आपूर्ति ट्राइडेंट न्यूमेटिक्स प्राइवेट लिमिटेड, कोयम्बटूर द्वारा की गई है, जो डीआरडीओ का टेक्नोलॉजी पार्टनर है और उसे 48 प्लांट्स का ऑर्डर दिया गया है।
28 अप्रैल को, डीआरडीओ ने घोषणा की थी कि वह पीएम कार्स फंड द्वारा किए गए आवंटन से अगले तीन महीनों के भीतर 500 मेडिकल ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित करेगा। डीआरडीओ ने कहा कि उसने अपने मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट (एमओपी) तकनीक को स्थानांतरित किया है, जिसे तेजस फाइटर जेट में ऑन-बोर्ड ऑक्सीजन उत्पादन के लिए विकसित किया गया था। ट्रिडेंट के साथ-साथ बेंगलुरु स्थित टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स लिमिटेड से भी इसमें मदद ली जा रही है। ट्रिडेंट और टाटा क्रमशः 48 और 332 संयंत्र लगाएंगे। शेष 120 संयंत्र भारतीय पेट्रोलियम संस्थान, देहरादून के साथ काम करने वाले उद्योगों द्वारा स्थापित किए जाएंगे।
मंगलवार को डीआरडीओ ने कहा- 332 प्लान्ट‍्स के ऑर्डर को टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स लिमिटेड के पास रखा गया है और डिलीवरी मध्य मई से शुरू होगी। इन प्लान्ट‍्स की समय से पहले डिलीवरी के लिए डिलीवरी शेड्यूल पर बहुत बारीकी से नजर रखी जा रही है। साइटें तैयार की जा रही हैं। बताते चलें कि हाल के दिनों में ऑक्सीजन की कमी के कारण कई अस्पतालों में मरीजों के जान गंवा देने की सूचना आई। सोमवार को कर्नाटक के चामराजनगर में 24 रोगियों, जिनमें से 23 कोरोना ​​संक्रमित थे, ने अपनी जान गंवा दी। इससे पहले शनिवार को दिल्ली के बत्रा अस्पताल के गैस्ट्रोएंट्रोलॉजी विभाग के एचओडी सहित 12 कोविड ​​-19 के मरीजों की कथित तौर पर ऑक्सीजन की कमी के कारण जान चली गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *