केजरीवाल 72 लाख लोगों को 2 माह का राशन और ड्राइवरों को 5000 देंगे, बिहार में 1 माह का राशन फ्री

New Delhi : दिल्ली की अरविंद केजरीवाल की सरकार ने घोषणा की है कि अगले दो महीनों तक शहर में राशन कार्डधारकों को मुफ्त राशन प्रदान किया जायेगा। इस फैसले से राष्ट्रीय राजधानी में लगभग 72 लाख लोगों को फायदा होगा। यहां मीडिया को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि प्रदेश के सभी ऑटो, ई-रिक्शा और टैक्सी चालकों को एक बार में 5000 की फाइनैन्शियल हेल्प दी जायेगी ताकि उनकी जरूरतों को पूरा किया जा सके। उन्होंने कहा कि सरकार ड्राइवरों के खातों में उनकी जरूरतों को पूरा करने में मदद करने के लिए प्रत्येक को 5,000 रुपये हस्तांतरित करेगी। इधर बिहार सरकार ने भी राशन कार्ड धारकों को मई महीने का यानी एक महीने का राशन फ्री देने की घोषणा की गई है। बिहार में 15 मई तक लॉकडाउन की घोषणा की गई है। नई गाइडलाइन्स के मुताबिक सभी तरह की सेवाएं और आफिस 15 मई तक बंद रहेंगे।

 

लॉकडाउन पर मीडिया से बात करते हुये अरविंद केजरीवाल ने कहा- हमने तय किया है कि दिल्ली में सभी राशन कार्ड धारकों, लगभग 72 लाख की संख्या में, को अगले 2 महीनों के लिए मुफ्त राशन दिया जाएगा। इसका मतलब यह नहीं है कि लॉकडाउन 2 महीने तक जारी रहेगा। यह सिर्फ मदद करने के लिए किया जा रहा है। गरीब वित्तीय समस्याओं से गुजर रहा है और ऐसे गंभीरत संकट के समय में उनको मदद देनी ही होगी। केजरीवाल ने कहा- दिल्ली में सभी ऑटोरिक्शा चालकों और टैक्सी ड्राइवरों को दिल्ली सरकार द्वारा प्रत्येक को 5,000 रुपये दिए जाएंगे ताकि उन्हें इस वित्तीय संकट के दौरान थोड़ी मदद मिले। यह निर्णय उन प्रतिबंधों के मद्देनजर लिया गया जो राष्ट्रीय राजधानी में पिछले 15 दिनों से कोविड -19 के प्रसार को रोकने के लिए किये गये हैं।
बहरहाल कोरोना से दिल्ली की हालत अभी भी पस्त है। लोगों को हॉस्पिटल में बेड नहीं मिल रहे हैं और अगर पैसे देकर बेड मिल भी जा रहे हैं तो ऑक्सीजन और मेडिसिन की समस्या सामने मुंह बाये खड़ी हो जाती है। हालात यह है कि दिल्ली में ऑक्सीजन, रेमडिसीवर मेडिसिन की कानाबाजारी चरम पर है। एक एक रेमडिसीवर के लिये लोगों से एक एक लाख रुपये तक लिये जा रहे हैं। दवाई माफिया इस पूरे महामारी में खलनायक की भूमिका में हैं। हद दर्जे तक इंसानियत से खिलवाड़ कर रहे हैं। तमाम सरकारी प्रयास सिर्फ दिखावा ही रह गया है लोगों को राहत नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *