विकलांग्ता का मजाक बनाने वालों को अफसर बन दिया जवाब, पढ़ें IAS इरा सिंघल की कहानी

New Delhi : आज बात एक ऐसी महिला की जिन्होंने अपनी विकलांग्ता को मात देकर वो मुकाम हासिल किया जिसे पाना कतई आसान नहीं। हम बात कर रहे हैं इरा सिंघल की। इरा सिंघल Scoliosis से पीड़ित हैं। बता दें कि यह बीमारी मुख्य तौर से रीढ़ की हड्डी के टेढ़ेपन से संबंधित है। बताया जाता है कि कभी कुछ लोग इरा की इस शारीरिक कमजोरी का मजाक भी उडा़ते थे लेकिन इरान ने अफसर बनकर इसका जवाब दिया।
तेज-तर्रार इरा सिंघल ने साल 2010, 2011 और 2013 में यूपीएससी की परीक्षा दी और वो IRS के लिए चुनी गईं। लेकिन 62 प्रतिशत Locomotor Disability की वजह से उनकी ज्वायनिंग नहीं हो सकी। इसके बाद उन्होंने Central Administrative Tribunal (CAT) में केस दाखिल किया था। यह केस उन्होंने जीत लिया था। इसके बाद साल 2014 में उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा दी और इस बार जनरल कैटेगरी में टॉप किया।
एक खास बात यह भी है कि उन्होंने कभी भी अपनी शारीरिक स्थिति को रिजर्वेशन का आधार नहीं बनाया। इरा सिंघल के बारे में आपको बता दें कि उन्होंने नेताजी सुभाष इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, दिल्ली से बी.टेक किया। इसके बाद उन्होंने एमबीए भी किया। इरा सिंघल ने मेऱठ स्थित सोपिया गर्ल्स स्कूल और लॉरेटो कॉन्वेन्ट स्कूल, दिल्ली से शुरुआती पढ़ाई की थी।
मेरठ की रहने वालीं इरा ने एक साक्षात्कार में बताया था कि जब वह छोटी थीं तो अकसर शहर में कर्फ्यू लगा करता था। उन्हें बताया जाता कि डीएम ने कर्फ्यू लगाया है। उन्हें बचपन में पता चला कि कर्फ्यू लगाने वाले डीएम के पास काफी शक्तियां होती हैं। वहीं से इरा ने बड़े होकर IAS बनने का सपना संजो लिया।
पढ़ाई पूरी करने के बाद इरा सिंघल ने पहले कोका कोला कंपनी में काम किया औऱ फिर कैडबरी जॉइन कर ली। कैडबरी में उन्हें अच्छी खासी सैलरी मिलती थी। कैडबरी में नौकरी के दौरान उनका मन यूपीएससी की परीक्षा देने के लिए बेचैन होने लगा था।
(Source – Jansatta)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *