कम उम्र में पढ़ाई छोड़ बाॅक्स ऑफिस पर मचा रहीं हैं धमाल, पर आज भी हैं पढ़ाई की शौकीन

New Delhi : बॉलीवुड में जब भी चुलबुली एक्ट्रेसेज की बात होती है, तब काजोल (KAJOL) का नाम जरुर गिना जाता है। काजोल 90 की दशक की बेहतरीन अभिनेत्रीयोँ में से एक हैं। आज एक्ट्रेस अपना 45वां जन्मदिन मना रहीं हैं। काजोल का जन्म 5 अगस्त 1974 को मुंबई में हुआ था। एक्ट्रेस एक फिल्मी परिवार से ताल्लुकात रखतीं हैं। जी हाँ, काजोल मशहूर एक्ट्रेस तनुजा और डायरेक्टर शोमू मुखर्जी की बेटी हैं। काजोल की छोटी बहन तनीषा भी एक्ट्रेस हैं और नूतन उनकी मौसी थीं। काजोल ने काफी कम उम्र में ही एक्टिंग को अपना करियर बना लिया था, यहां तक की काजोल ने एक्टिंग के लिए अपनी पढ़ाई तक छोड़ दी थी। उन्होंने बॉलीवुड की कई बेहतरीन फिल्मों में अभिनय किया है। 

इतना ही नहीं काजोल के नाना-नानी भी भारतीय सिनेमा का हिस्सा रहें हैं। काजोल का पूरा पैतृक परिवार परिवार ही बॉलीवुड का एक अभिन्न हिस्सा रहा हैं। उनके पिता के भाई जॉय मुखर्जी- देब मुखर्जी भारतीय फिल्म निर्माता थे, तो वहीं उनके दादाजी एक फिल्मकार थे। यहाँ तक की फिल्म जगत में उनके चचेरे भाई – बहन भी अच्छा नाम कमा रहें हैं।

काजोल ने पंचगनी की सेंट जोसफ कॉन्वेंट बोर्डिंग स्कूल से प्राथमिक शिक्षा हासिल की थी। पढ़ाई के अलावा वह स्कूल के दिनों में दूसरी गतिविधियों में भी हिस्सा लेती थी, उन्हें डांस करना बहुत पसंद था। स्कूल के दिनों से ही काजोल को पढने और एक्टिंग का काफी शौक था।अपने इस शौक को पूरा करने के लिए उन्होंने अपनी पढ़ाई छोड़ने की ठान ली।

काजोल का अपने बचपन को लेकर कहना  है कि वह बचपन में बहुत जिद्दी और शरारती थी। एक्ट्रेस कम उम्र में ही अपने माता-पिता से अलग हो चुकी थी। लेकिन काजोल पर कभी माँ – बाप से अलग होने का कोई असर नही पड़ा। माँ ना होने की वजह से काजोल की नानी और दादी काजोल का ख्याल रखती थी। काजोल हमेशा अपनी नानी की तारीफ करते हुए कहती है कि ‘मेरी नानी ने मुझे कभी मेरी मम्मी की कमी महसूस नही होने दी’। एक्ट्रेस की परवरिश बंगाली और महाराष्ट्रीयन दोनों कल्चर में हुई है।

महज़ 16 साल की उम्र में ही काजोल ने एक्टिंग की शुरुआत कर दी थी। उन्होंने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत फिल्म ‘बेखुदी‘ से की थी।  हालांकि फिल्म तो कुछ खास नहीं चल पाई थीं।  लेकिन फिल्म में उनके अभिनय को बेहद पसंद किया गया था। इसी के चलते उनके पास फिल्मों की लाइन लग गई थी।

साल 1993 में काजोल अब्बास मस्तान की फिल्म ‘बाजीगर’ में नज़र आई थी। उसके बाद साल 1995 में काजोल की दो फिल्में ‘करण-अर्जुन’ और ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे’ बैक टू बैक हिट हुई। यही नही एक्ट्रेस अपने अभिनय के दम पर कई अवाॅर्ड अपनी झोली में डाल चुकी हैं।

उनकी कुछ खास फिल्में गुप्त : दी हिडन तरूर, दुश्मन, प्यार तो होना ही था, कुछ कुछ होता है, कभी ख़ुशी कभी गम, फना, यू. मी और हम, माय नेम इज खान, वी आर फैमिली, दिलवाले आदि हैं।

काजोल की शादी अभिनेता अजय देवगन से 24 फ़रवरी 1999 हुई हैं। जिस समय काजोल की शादी हुई थी। उस समय वह बॉलीवुड की लीडिंग एक्ट्रेस में शुमार थीं। आलोचकों ने काजोल के शादी के फैसले को गलत ठहराया था, उनका कहना था कि शादी के बाद काजोल का करियर पूरी तरह खत्म हो जायेगा पर ऐसा नहीं हुआ।  काजोल ने फिल्मों में काम करना जारी रखा।  शादी के बाद उनकी फिल्म ‘कभी ख़ुशी कभी गम’ ब्लॉकबस्टर हिट हुई। काजोल अब दो बच्चों की माँ हैं, जिनमें एक का नाम न्यासा देवगन और दूसरे का युग देवगन है।

काजोल को कविताएं लिखने और साइंस पर बेस डरावने नॉवल पढ़ने का आज भी काफी शौक है। सेट पर अक्सर उनके हाथ में किताब देखी जा सकती है। इसके साथ ही काजोल भगवान शिव को मानती हैं और एक ओम लिखी हुई हीरे की अंगूठी हमेशा पहने रहती हैं। उनकी इस अंगूठी के बारे में कहा जाता है कि यह अंगूठी काजोल को उनके पति अजय देवगन ने फिल्म ‘इश्क’ के सेट पर एंगेजमेंट रिंग की तरह पहनाई थी।