महंगे कपड़े नहीं पहनती, कभी 1000 से ज्यादा की शॉपिंग नहीं करती, बेकार का दिखावा मुझे नहीं पसंद

New Delhi: सारा के दोनो ही पेरेंट्स काफी अच्छे एक्टर्स हैं। दोनों ने अपने टाइम पर काफी नाम कमाया हैं। सारा अली खान को अपनी मां की कार्बन कॉपी भी कहा जाता हैं। दोनों का कई बातों में कंपैरिजन भी किया जाता है। इस बारे में सारा कहती हैं, ‘मुझे जितना इस बारे में कांप्लीमेंट मिल रहा है, मुझे अच्छा लग रहा है। अगर एक परसेंट भी सच्चाई है इस बात में कि मैं मॉम की तरह दिखती हूं तो इस बात से बहुत खुशी होती है। मैं मॉम और डैड का बढिय़ा कॉम्बिनेशन हूं। मैं टोटल उन लोगों की तरह हूं। लेकिन मैं उनसे ज्यादा क्रेजी हूं।

आगे सारा कहती हैं, ‘मेरे सोचने का तरीका पापा की तरह है। पापा भी चीजों को बैलेंस करने का तरीका ढूंढते हैं और मैं भी ऐसा ही सोचती हूं। मैं सोच समझ कर डिसीजन लेती हूं। लेकिन दिल के मामले में मां की तरह हूं। मैं जल्दी किसी से अटैच नहीं होती हूं, लेकिन फिर अगर हो गई तो मैं उसे भूल नहीं पाती हूं।’

सारा कहती हैं कि उनका बचपन काफी प्रोटेक्टिव रहा है। हद से ज्यादा रहा। उन्होंने कहा, ‘क्योंकि मैं अपनी मॉम के साथ रही हूं। 12-14 साल हो चुके हैं कि मेरे पेरेंट्स का डिवोर्स हो चुका है। तब से मेरी सिंगल मॉम ने मुझे और इब्राहिम को सेफ फील करवाने के लिए हमें काफी संभाल कर रखा। हमें उन्होंने बिल्कुल बिगाड़ा नहीं, लेकिन हमारी सारी मुश्किलों को वह हल करती थी। अब मां कहती हैं कि फिल्मों की दुनिया में कदम रखने के बाद अब जो तुम चाहती हो, तुम्हें मैं नहीं दे सकती। खुद ही लेना होगा तुम्हें।’

सारा बताती हैं कि उन्हें पर्सनली स्टार किड कहलाने से परेशानी हैं। वह कहती हैं, ‘मैं इस बात को झुठला नहीं सकती हूं कि मैं सैफ अली खान और अमृता सिंह की बेटी हूं। लेकिन यह भी सच है कि मैं खुद रोहित शेट्टी के पास काम मांगने चली गई थीं कि आप मुझे काम दीजिए। मैं यहां काम करने आई हूं और अपनी पहचान बनाना चाहती हूं।

इसके अलावा सारा कहती हैं कि उन्हें महंगे कपड़े पहनने का बिल्कुल भी शौक नहीं है। वह कहती हैं, ‘मैं हजार रुपए से ज्यादा की शॉपिंग कभी नहीं करती हूं। मेरी सारी शॉपिंग दिल्ली के शंकर मार्केट से होती है। हाल ही में हैदराबाद गई थीं तो मॉम के साथ मीना बाजार चली गई। मुझे ये नहीं समझ आता कि लोग कैसे इतने ज्यादा पैसे खर्च करते होंगे कपड़ों पर। सोशल मीडिया पर लोग कहते हैं कि मैं कपड़े रिपीट करती हूं तो हां करती हूं। मुझे कोई सेलेब स्टेटस नहीं चाहिए। मां ने ही हमेशा सलाह दी है कि जरूरतमंदों की मदद करो। बेकार का दिखावा मत करो। सिर्फ दिखावे के लिए पैसे उड़ाने से अच्छा है कि किसी गरीब का पेट भर दो। सारा कहती हैं कि उन्हें छोटी दुकानों और गलियों में घूमना अच्छा लगता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *