श्रीदेवी के करीब रहने के लिए बोनी ने 31 साल पहले चुकाई थी दोगुनी फीस,शादी से पहले थी प्रेग्नेंट

New Delhi: बोनी कपूर और श्री देवी की जोड़ी बॉलीवुड की खूबसूरत जोड़ी में से एक मानी जाती। हालांकि दोनों का साथ 22 साल तक रहा। दोनों 2 जून 1996 को शादी के बंधन में बंधे थे। इन 22 साल से में इन दोनों ने कई उतार-चढ़ाव को देखा। इस साल 24 फरवरी को इन दोनों का साथ टूट गया और श्रीदेवी ने हमेशा हमेशा के लिए दुनिया को अलविदा कह दिया।

श्रीदेवी के जाने के बाद से बोनी कपूर पूरी तरह से टूट गए थे लेकिन फिर भी उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और मां-बाप दोनों का फर्ज अदा कर रहे हैं। बोनी कपूर आज यानी 11 नवंबर को 63वां जन्मदिन मना रहे हैं। इस मौके पर आपको श्रीदेवी और बोनी कपूर की शादी से जुड़ी दिलचस्प बात बताते हैं।

खबरों की मानें तो श्रीदेवी शादी से पहले प्रेग्नेंट थीं। यही वजह थी कि बोनी कपूर ने साल 1996 में श्रीदेवी से जल्दबाजी में शादी कर ली थी। हालांकि इन दोनों की शादी की राह काफी मुश्किल भरी रही। साथ ही इन दोनों की लव स्टोरी भी काफी चर्चा में रही। कहा जाता है कि बोनी कपूर ने ही पहले श्रीदेवी को प्रपोज किया था। बोनी श्रीदेवी के प्यार में पागल थे जबकि श्रीदेवी उन्हें उस वक्त भाव तक नहीं देती थीं।

खबरों की मानें तो श्रीदेवी के करीब रहने के लिए बोनी कपूर ने बड़ा कदम तक उठा लिया था। यह वाकया तब का है जब बोनी कपूर अनिल कपूर के साथ ‘मिस्टर इंडिया’ फिल्म बना रहे थे। इस फिल्म के लिए बोनी कपूर श्रीदेवी को कास्ट करना चाहते थे। हालांकि उन तक पहुंचने का बोनी को कोई भी जरिया नहीं मिल रहा था। तभी बोनी ने श्रीदेवी की मां से कॉन्टैक्ट किया लेकिन मां ने फिल्म के लिए ज्यादा पैसों की डिमांड कर दी।

कहा जाता है कि बोनी श्रीदेवी के प्यार में इस कदर डूबे हुए थे कि दोगुनी फीस भी देने को तैयार थे। बोनी ने ऐसा इसलिए किया जिससे वह श्रीदेवी के करीब रह सकें। उस वक्त बोनी की शादी नहीं हुई थी। कुछ वक्त बाद बोनी ने मोना कपूर से शादी कर ली। श्रीदेवी अपने काम में बिजी हो गई लेकिन बोनी शादी के बाद भी श्रीदेवी को मन ही मन चाहते रहे। खबरों की मानें तो शादी के बाद भी वह श्रीदेवी के करीब आने का बहाना ढूंढते रहते थे। एक वक्त ऐसा आया श्रीदेवी की मां बीमार हो गईं और उनका लंबा इलाज चला। उस मुश्किल दौर में बोनी ने श्रीदेवी का साथ दिया और सारा कर्ज भी चुकाया।

बोनी के इस कदम से श्रीदेवी प्रभावित हुईं। कहा जाता है कि जिस वक्त यह सब हुआ श्रीदेवी और मिथुन के भी अफेयर के किस्से थे। मिथुन को शक था कि श्रीदेवी उन्हें धोखा दे रही हैं। बात यहां तक पहुंच गई थी कि भरोसा दिलाने के लिए श्रीदेवी ने बोनी को राखी तक बांध दी थी। मिथुन पहले से ही शादीशुदा थे और पत्नी को छोड़ने को तैयार नहीं थे। इसलिए श्रीदेवी ने बोनी का हाथ थामा।

श्रीदेवी के जीतेजी तो कभी भी अर्जुन कपूर की जाह्नवी और खुशी से ज्यादा बात भी नहीं करते थे। हालांकि श्रीदेवी के गुजर जाने के बाद अर्जुन कपूर ने बड़ा भाई होने के सारे फर्ज निभाए। यहां तक कि वह पिता की मदद करने के लिए दुबई भी गए थे। अर्जुन कपूर की दोनों बहनों जाह्नवी और खुशी के साथ अक्सर मस्ती करते हुए तस्वीरें सामने आती रहती हैं। जिससे इतना तो साफ है कि वह अपनी बहनों का पूरा ख्याल रख रहे हैं।